Uttrayan


मकर संक्रांति

मकर संक्रांति हिंदू धर्म का प्रमुख त्यौहार है। यह पर्व पूरे भारत में किसी न किसी रूप में मनाया जाता है।  पौष मास में जब सूर्य मकर राशि पर आता है तब इस संक्रांति को मनाया जाता है।

यह त्यौहार  अधिकतर जनवरी माह की चौदह तारीख को मनाया जाता है। कभी-कभी यह त्यौहार बारह, तेरह या पंद्रह को भी हो सकता है, यह इस बात पर निर्भर करता है कि सूर्य कब धनु राशि को छोड़ मकर राशि में प्रवेश करता है। इस दिन से सूर्य की उत्तरायण गति आरंभ होती है और इसी कारण इसको उत्तरायणी भी कहते हैं।

मकर संक्रांति से कई पौराणिक कथाएं जुड़ी हुई हैं।

कहा जाता है कि इस दिन भगवान सूर्य अपने पुत्र शनि से मिलने स्वयं उसके घर जाया करते हैं। शनिदेव चूंकि मकर राशि के स्वामी हैं, अत: इस दिन को मकर संक्रांति के नाम से जाना जाता है।

मकर संक्रांति के दिन ही गंगाजी भागीरथ के पीछे-पीछे चलकर कपिल मुनि के आश्रम से होकर सागर में जा उनसे मिली थीं। यह भी कहा जाता है कि गंगा को धरती पर लाने वाले महाराज भगीरथ ने अपने पूर्वजों के लिए इस दिन तर्पण किया था। उनका तर्पण स्वीकार करने के बाद इस दिन गंगा समुद्र में जाकर मिल गई थी। इसलिए मकर संक्रांति पर गंगा सागर में मेला लगता है।

महाभारत काल के महान योद्धा भीष्म पितामह ने भी अपनी देह त्यागने के लिए मकर संक्रांति का ही चयन किया था।

इस त्यौहार को अलग-अलग प्रांतों में अलग-अलग नाम से मनाया जाता है। मकर संक्रांति को तमिलनाडु में पोंगल के रूप में तो आंध्रप्रदेश, कर्नाटक व केरला में यह पर्व केवल संक्रान्ति के नाम से जाना जाता है।

इस दिन भगवान विष्णु ने असुरों का अंत कर युद्ध समाप्ति की घोषणा की थी व सभी असुरों के सिरों को मंदार पर्वत में दबा दिया था। इस प्रकार यह दिन बुराइयों और नकारात्मकता को खत्म करने का दिन भी माना जाता है।

यशोदा जी ने जब कृष्ण जन्म के लिए व्रत किया था तब सूर्य देवता उत्तरायण काल में पदार्पण कर रहे थे और उस दिन मकर संक्रांति थी। कहा जाता है तभी से मकर संक्रांति व्रत का प्रचलन हुआ।



 Makar Sankranti

Due to the variation in tradition through different cultures of India, the celebration procedure and myths behind the festival varies from region to region. The festival is dedicated to Sun God.
Why is Makar Sankranti celebrated? Makar Sankranti is observed to celebrate the transition of sun into the zodiac house of Capricorn. The Hindi version of Capricorn is “Makara”. Hence this day is known as “Makar Sankranti”. Sun God is worshiped at many places.
Makar Sankranti is a harvest festival. It is celebrated to mark the arrival of spring season.
Kite Flying: Flying kites are seen on the sky. This is done to please the Sun God.
Celebration: Makar Sankranti is generally celebrated a day after the Lohri fesitval. It is generally celebrated on 14th day of January every year.
  • It is extensively celebrated in different parts of India.
  • People wear new clothes and distribute sweets.
  • People take holy bath on this day.
  • Fairs (melas) are held in many cities.
  • World famous Kumbh mela is held every 12 years in the holy places.
  • People make sweets of sesame seeds (til). Semame sweets are traditionally consumed in India. It is very tasty and helps us to maintain good health.
Importance: 
  • The festival of Makar Sankranti is very important because it refers to the transition of sun into the zodiac house of Capricorn.
  • Makar Sankranti promotes a feeling of sense of unity among peoples.
  • People forget their past grievances and forgive one another.
  • Since it is a harvest festival, it is of utmost importance for the farmers.

0 comments: